Hindi Poems Archive

बड़ी उलझन में है दिल , आज ये सोच कर |

बड़ी उलझन में है दिल , आज ये सोच कर | बिताए थे हंसी लम्हे जिनके

कर्त्तव्य पथ पे जो चलेगा , अडचने तो उसको आएगी

कर्त्तव्य पथ पे जो चलेगा , अडचने तो उसको आएगी | पर भयभीत जो ना हुआ

जिंदगी तो बिता दी है तुने , ईश्वर की खोज में

जिंदगी तो बिता दी है तुने , ईश्वर की खोज में | क्यों नहीं गया ध्यान

kat rahi hai zindgi ek anchhuye ehsaas se

kat rahi hai zindgi ek anchhuye ehsaas se kya pta kal kya ho , bekhabar hai

कट रही है जिंदगी एक अनछुए एहसास से |

कट रही है जिंदगी एक अनछुए एहसास से | क्या पता कल क्या हो , बेखबर