Poems Archive

बेक़रार दिल को कुछ तो करार दे दे

बेक़रार दिल को कुछ तो करार दे दे | झूठा ही सही थोडा सा प्यार दे

फिजा में भीनी -भीनी सी खुशबू आ रही है

फिजा में भीनी -भीनी सी खुशबू आ रही है | शरद ऋतू का जैसे एहसास ला

Fiza mein bhini-bhini si khushboo aa rhi hai

Fiza mein bhini-bhini si khushboo aa rhi hai Sharad ritu ka jaise ehsaas la rhi hai

Chamkta sooraj bhi sham ko dhal jata hai

Chamkta sooraj bhi sham ko dhal jata hai Andheri raat ke baad ,phir se jeewan mein

चमकता सूरज भी शाम को ढल जाता है

चमकता सूरज भी शाम को ढल जाता है | अँधेरी रात के बाद , फिर से