बड़ी उलझन में है दिल , आज ये सोच कर |

बड़ी उलझन में है दिल , आज ये सोच कर | बिताए थे हंसी लम्हे जिनके संग , कैसे जाये उन्हें छोड़ कर || दस्तूर है

Tum na aao zindgi mein ab gila kuch bhi nahi

Had se zyada chaah ke bhi hamne kuch paya nahi Mit rhi hai saans meri unke hee ehsaas se Aur vo kehne lage hai tumne mujhko

You to kai dafa vada kiya khud se ki tumhe bhool jaye

You to kai dafa vada kiya khud se ki tumhe bhool jaye Par jab bhi tum muskaraye khayalo mein ham vada hee bhool gye…..BY SPT

झपकती पलके आज भी याद दिलाती है

झपकती पलके आज भी याद दिलाती है , वो तेरा धीरे से मुस्करा के कुछ कह जाना थोडा सा इठलाना , थोडा सा इतराना , और चुपके

Aur bhi baate thi Jo tumse kehni thi

Aur bhi baate thi Jo tumse kehni thi, kya jaldi thi yo rooth Jane ki…..BY SPT

बड़ी सिद्द्दत से सम्हाला था खुद को तेरे जाने पे

बड़ी सिद्द्दत से सम्हाला था खुद को तेरे जाने पे भूल से भी मुझे सताने की कोशिश ना करना …..BY SPT ************************************************* Badi siddat se samhala