मजबूरी इतनी भी नहीं थी , की यूँ ही भुला दे

मजबूरी इतनी भी नहीं थी , की यूँ ही भुला दे मेरी वफाई को बेवफाई बना दे हम तो खामोश थे अब तक अपनी मोह्हबत को

Aksar khawab mein tera deedar hota hai

Aksar khawab mein tera deedar hota hai Har lamha us waqt ka talabgar hota hai Hum door ho gye hai tumse to kya hua Kya pass

Tere labo pe mera naam aaya

Tere labo pe mera naam aaya Behti hawa se ye paigaam aaya Hum to kho hee baithe they umeeed teri Magar meri chahat pe tujhko ab

एक जादुई सा एहसास जगाती है तेरी आँखे

एक जादुई सा एहसास जगाती है तेरी आँखे तेरी अधूरी दास्तान बताती है ये आँखे झपकने ना देना एक पल भी इन्हें ना जाने क्यों कुछ

Vaise to tere sath rehker bhi sukoon na mila mujhko

Vaise to tere sath rehker bhi sukoon na mila mujhko Har waqt isi kasamkas mein rha ki..tere chehre ko dekhu ya teri aankho mein doob jao…..BY

मोह्हबत की ही नहीं तुमने मुझसे

मोह्हबत की ही नहीं तुमने मुझसे में तो सिर्फ अपनी मोह्हबत का सिला देता हूँ बहुत सहा है सितम तेरी चाहत का अब तो सिर्फ तुझे भुलाने की